Home ज्योतिष ज्ञानअंक शास्त्र मूलांक 6

मूलांक 6

by CKadmin

अंक 6 को अंक ज्योतिष में सौंदर्य व आकर्षण का अंक कहा जाता है। यह सुंदरता, भोग विलास, भौतिक सुख व साज-सज्जा का कारक है। शुक्र ग्रह अंक 6 का प्रतिनिधित्व करते हैं। शुक्र ग्रह  सौरमंडल का सर्वाधिक सुंदर व चमकीला ग्रह है। इसे सौंदर्य का देवता भी कहा जाता है। अतः मूलांक 6 वाले प्रायः सुंदर रंग रूप वाले होते हैं। इनकी शारीरिक संरचना सुगठित व मनोहर होती है। ये लोग देखने में सुंदर होते हैं। ये स्वयं भी सजना सँवरना पसंद करते हैं। मूलांक 6 वाले जातक हमेशा साफ सुथरे कपड़े पहनकर, सलीके से बन ठन कर व फिट रहना पसंद करते हैं। इन्हें महंगी व ब्रांडिड चीज़ें आकर्षित करती हैं।  इनके चेहरे से इनकी उम्र का पता नहीं चलता।  ये लोग रचनात्मक और कला व सौंदर्य के प्रेमी होते हैं। इनके इस व्यवहार के चलते मूलांक 6 वाले जातकों को फैशन जगत से जुड़े क्षेत्रों में भी कार्यरत पाया जाता है। ब्युटी पार्लर, स्पा, सैलून, फैशन, ग्लैमर, आभूषण, डिजाइनिंग इत्यादि कार्यों में इनकी रुचि अधिक होती है। ये लोग काफी हंसमुख, खुशमिजाज व मिलनसार प्रवर्ति के होते हैं। इन्हें लोगों से घुलना मिलना व बातें करना अच्छा लगता है। ये लोग अपने व्यवहार व बातों से दूसरों का दिल जीत लेते हैं व बहुत जल्दी लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं। इन लोगों के जीवन में विवाह से पूर्व प्रेमसम्बन्धों को भी देखा जाता है। इनका वैवाहिक जीवन इनके रोमांटिक व प्रेमी स्वभाव की वजह से सुखमय रहता है। ये अपने जीवनसाथी का पूर्ण रूप से साथ देते हैं। आर्थिक स्थिति की बात करें तो ये लोग अपने भोग विलास व आकर्षक चीज़ों पर अधिक व्यय करते हैं। खर्चा करते हुए ये लोग नहीं सोचते। अतः इनकी आर्थिक स्थिति में ऊपर नीचे लगा रहता है। हालाँकि ये लोग अपनी ज़िन्दगी में भौतिक सुखों का पूर्ण आनंद लेते हैं। शिक्षा के क्षेत्र में इनका प्रदर्शन औसत ही रहता है। हालाँकि ये लोग अपने कार्य के प्रति निष्ठावान होते हैं। इनका हृदय उदार व कोमल होता है। ये दूसरों की मदद करने को हमेशा तैयार रहते हैं।

अंक 6 के शुभ फल प्राप्त करने के लिए मूलांक 6 वाले जातक निम्न उपाय करें:-

-सदैव साफ सुथरे व सलीकेदार वस्त्र पहनें।

-जीवनसाथी के साथ सम्बन्ध मधुर रखें।

-गाय की सेवा करें।

-मंदिर में दही का दान करें।

0 comment

Related Articles

Leave a Comment